सत्येनओझा,मोगा

सरदारनगरक्षेत्रकेयुवकोंने30सालकीदुर्गधखत्मकरखालीप्लॉटकोबैडमिटनकोर्टमेंबदलकरनईमिसालपेशकीहै।30सालसेपॉशइलाकेकीघनीआबादीकेबीचखालीप्लॉटमेंबनेकूड़ेकेडंपकेमामलेमेंजबइलाकेकेपार्षदोंनेकोईसुनवाईनहींकीऔरसैकड़ोंशिकायतोंकेबावजूदनिगमकेअधिकारियोंकेसिरपरजूंनहींरेंगी।तबहरतरफसेनिराशहोकरक्षेत्रकेचार-पांचयुवकोंनेमिलकरनिजीस्तरपरपैसेएकत्रकरजेसीबीमशीनकीमददसेदोदिनकीमेहनतमेंकूड़ेकेडंपकोखेलमैदानबनादिया।30सालतकआसपासकेलोगजिसदुर्गधसेपरेशानरहे,वहींअबयुवकबैडमिटनमेंअपनाखेलकौशलदिखारहेहैंअपनीप्रतिभाकोनिखाररहेहैं।

बतादेंकिसरदारनगरक्षेत्रमें30सालसेआबादीकेबीचमेंलगभग40मरलेकेखालीप्लॉटमेंकूड़ेकाडंपलगाहुआथा।मोहल्लेकेलोगभीवहांकूड़ाफेंकनेलगेथे।सरदारनगरक्षेत्रसेपिछले25सालोंसेनगरनिगममेंकांग्रेसनेतापवित्रसिंहयाफिरउनकीपत्नीजगदेवकौरतीनबारनगरनिगमकाप्रतिनिधित्वकरचुकेहैं।दोबारभाजपानेताखेमचंदवउनकीपत्नीशशिनिगममेंजाचुकीहैं।मोहल्लेकेलोगोंनेहरपार्षदसेक्षेत्रकीइसगंभीरसमस्याकोखत्मकरनेकीगुहारलगाईकिप्लॉटमेंकूड़ेकाडंपनसिर्फबीमारियोंकाघरबनाहुआहैबल्किबरसातमेंयहांखतरनाकजीव-जंतुभीदेखेगएहैं,लेकिनकिसीनेसुनवाईनहींकी।निगमकेअधिकारियोंसेभीकहा,लेकिनवेभीएककानसेसुनकरदूसरेसेनिकालतेरहे।

6500खर्चकरदिलायासालोंकीदुर्गधसेछुटकारा

उधर,इसबीचइसीमोहल्लेमेंविभिन्नप्रतिष्ठानोंमेंकामकरनेवालेकुछयुवकोंकीकोरोनाकालमेंनौकरीछूटचुकीहैऔरइसकेकारणवेइनदिनोंखालीहैं।उन्होंनेनौकरीछूटनेकेबादभीमनमेंनिराशाआनेकेबजायकुछनयाकरनेकीसोची।इसीप्लॉटकेआसपासरहनेवालेसुखतेजसिंह,हनीकुमार,पंकज,जोतसिंह,गग्गू,हनीकंडा,निखिल,विक्की,सोनूआदिनेमिलकरएकसप्ताहपहलेप्लानबनाया।उन्होंनेकुछअपनेपाससेपैसेमिलाए,कुछपरिवारकेसदस्योंसेलिएऔरएकदिनकेलिएजेसीबीमशीनकिरायेपरलेकरउन्होंनेट्रैक्टरट्रॉलीकीमददसेपूराकूड़ाउठवादिया।इसकाममेंयुवकोंकेलगभग6500रुपयेखर्चहुए।बादमेंइनयुवकोंनेप्लॉटमेंबैडमिडनकोर्टबनादिया।जहां30सालसेदुर्गंधउठतीथी,अबवहांदिनमेंछोटेबच्चेखेलतेहैंऔरअंधेराघिरतेहीवहांबैडमिटनशुरूहोजाताहै।कूड़ेकेडंपसेबैडमिटनकोर्टबनेप्लॉटमेंयुवकअपनेखेलकौशलकोनिखारनेमेंजुटेहैं।युवकोंकेइसप्रयासकीपूरेक्षेत्रमेंखूबचर्चाहै।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!