संवादसूत्र,बरनाला:कोरोनाकेखात्मेकेलिएकेंद्रसरकारवराज्यसरकारपूरीतरहसेजुटीहुईहै।परंतुबच्चोंकीपढ़ाईपूरीतरहसेप्रभावितदिखाईदेरहीहै।बेशकप्राइवेटस्कूलप्रबंधकोंनेबच्चोंकीपढ़ाईजारीरखनेकेलिएऑनलाइनशुरूकरवादीहै,लेकिनउसकाभीपरिणामअभिभावकोंकोअच्छानहींमिलरहाहै,क्योंकिबच्चेपढ़ाईकीतरफकोईखासध्याननहींदेरहेहैं।नतोइसमाहौलमेंबच्चोंकोकिताबेंमिलरहीहैंवनहीस्टेशनरी।सरकारीस्कूलोंमेंपढ़ाईकरनेवालेबच्चोंकोकुछज्यादाहीपरेशानहोनापड़रहाहै,क्योंकिसरकारीस्कूलमेंआनेवालेबच्चोंकेअभिभावकोंकेपासमोबाइलनहींहै,अगरहैंतोवहइतनेपढ़ेलिखेनहींहैं,जिससेवहबेहदपरेशानहैं।

अभिभावकगुरप्रीतसिंह,सविताखीपलवप्रवेशजिंदलनेकहाकिस्कूलप्रबंधकोंद्वारामोबाइलपरव्हट्सएपकेमाध्यमसेसिलेबसजरुरभेजाजारहाहै,लेकिनकिताबेंवस्टेशनरीनहींमिलनेकेकारणउनकोअपनेबच्चोंकोपढ़ाईकरवानामुश्किलहोरहाहै।ऑनलाइनपढ़ाईकेलिएबच्चेदिलचस्पीनहींदिखारहेहैं,मुश्किलसेबच्चोंकोपढ़ाईकरवानीपढ़रहीहै।ऐसेमेंसरकारकोसप्ताहमेंएकदिनऐसारखनाचाहिए,जिसदिनकिताबेंवस्टेशनरीउनकोदुकानोंसेमिलसकें।

मदरटीचरस्कूलकेएमडीकपिलमित्तलनेकहाकिव्हाट्सएपकेमाध्यमसेअभिभावकोंकोसिलेबसभेजाजारहाहैताकिउनकोअपनेबच्चोंकोपढ़ाईकरनेमेंकोईपरेशानीपेशनाआएवअभिभावकभीअपनेबच्चोंकोदिलचस्पीसेपढ़ारहेहैं।

एसडीस्कूलकीप्रि.शीनूगुप्तानेबतायाकिबच्चोंकीपढ़ाईखराबनाहोइसलिएवहमैनेजमेंटसेबातकरकेकोईनाकोईसमाधानजरूरनिकालेंगे।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!

By Dean