जागरणसंवाददाता,शिमला:आउटसोर्सकर्मियोंनेभीचुनावीबेलापरहुंकारभरदीहै।उन्होंनेअपनेलिएकेंद्रीयतर्जपरन्यूनतमवेतन18हजारमांगाहै।अभीइन्हेंमामूलीपगारमिलरहीहै।विभिन्नविभागों,बोर्डो,निगमोंमेंकार्यरतइनकर्मियोंनेदावाजतायाकिउनकीसंख्या40हजारकेपारहै,लेकिनसरकारइसआंकड़ेकोकमबताकरगुमराहकररहीहै।बड़ीतादादहोनेकेबावजूदप्रदेशसरकारकोईनीतिनहींबनापाईहै।पूर्वकांग्रेसनेभीछलकियाऔरमौजूदाभाजपासरकारभीउसीनक्शेकदमपरचलरहीहै।इससंबंधमेंआउटसोर्सकर्मचारीयूनियनकाशिमलामेंसम्मेलनहुआ।कालीबाड़ीहॉलमेंहुईइससम्मेलनमेंपदाधिकारियोंनेरोषजताया।इसमेंस्वास्थ्य,सिंचाईएवंजनस्वास्थ्य,कृषि,शिक्षा,स्वास्थ्य,खाद्यएवंआपूर्तिनिगम,एसएलडीसी,प्रदेशसचिवालय,परिवहन,आइजीएमसी,कमलानेहरू,मिल्कफेडजैसेसंस्थानशामिलरहे।

यूनियनकेप्रदेशाध्यक्षएवंनवनिर्वाचितजिलाअध्यक्षवीरेंद्रलाल,महासचिवनरेंद्रदेष्टा,कोषाध्यक्षदलीपकुमारनेपूर्वकांग्रेसऔरवर्तमानसरकारदोनोंकीनीतियोंकोकोसा।उन्होंनेकहाकिनेताओंकेबयानआउटसोर्सकर्मियोंकेविरोधमेंहीरहेहैं।उन्हेंकर्मचारीनहींमाननादुर्भाग्यपूर्णहै।जबवेकर्मीनहींतोक्याहैं?क्योंउनसेरोजानादससेबारहघंटेकार्यलियाजारहाहै।बावजूदइसकेइसकेबदलेमामूलीपगारदीजारहीहै।यहांतककिन्यूनतमवेतनभीनहींमिलरहाहै।ओवरटाइमकाकोईभुगताननहींहोरहाहै।उनकाशोषणकियाजारहाहै।

सरकारइनकर्मचारियोंकेलिएनीतिबनानेकीजगहइनकीसंख्याको42हजारकेबजाए10हजारबताकरगुमराहकरनेकीकोशिशकररहीहै।

सम्मेलनकाशुभारंभसीटूराज्यसचिवविजेंद्रमेहरानेकिया।सम्मेलनकोयूनियनकेराज्यअध्यक्षयशपालबन्धु,मंडीजिलाध्यक्षअश्वनीकुमारहमीरपुरजिलामहासचिवविपनकुमार,कांगड़ाजिलाध्यक्षरिशुभरत,सीटूजिलासचिवबाबूरामवकिशोरीढटवालियाआदिनेसंबोधितकिया।विजेंद्रमेहरानेकहाहैकिप्रदेशसरकारकीआउटसोर्सकर्मचारीविरोधीनीतियोंकेखिलाफप्रदेशमेंआंदोलनतेजहोगा।प्रदेशसरकारलगातारआउटसोर्सकर्मचारियोंकेप्रतिसौतेलाव्यवहारअपनारहीहै।नतोकोईस्थायीनीतिबनाईजारहीहैऔरनहीउन्हेंनियमितकियाजारहाहै।

29सदस्यीयकमेटीगठित

सम्मेलनमें29सदस्यीयकमेटीकागठनकियागया।इनमेंवीरेंद्रलालकोयूनियनकीकमानसौंपीगई।उन्हेंअध्यक्षचुनागया।देवराजबबलू,राजेशशर्मा,लोकेंद्र,हेमावती,बलवंतकोउपाध्यक्षबनायागया।नरेंद्रदेष्टाकोमहासचिव,रिकूराम,नवीन,धर्मेद्र,महेंद्र,विनोदकोसचिववदलीपकुमारकोकोषाध्यक्षचुनागया।वेघराज,सुरेंद्रा,सीताराम,रवि,हर्षलता,विद्यागाजटा,विशाल,ललिता,नीमू,प्रवीण,निशा,संदीप,रामदास,लेखराज,हेमलताकोकमेटीसदस्यचुनागया।

By Davey