संवादसूत्र,सतगावां(कोडरमा):सतगांवाप्रखंडमेंपिछलेदोदिनोंसेवर्षाकेसाथआंधीतूफानचलनेसेमौसमसुहावनाहुआहै।वहींदूसरीओरवर्षाकेपानीनेकिसानोंकीकमरतोड़दीहैं।बतायाजाताहैकिकिसानोंद्वारागर्मीकेमौसममेंहोनेवालेभिडी,बोड़ा,बैगन,टमाटरआदीसब्जियांलगाईगईथी।इनसब्जियोंकोभीबारिशवओलावृष्टिसेकाफीनुकसानहुआ।वहींकिसानोंद्वारामूंगलगाईगईथीऔरअच्छीपैदावारकीउम्मीदलगाएथे,लेकिनबारिशकीपानीकिसानोंकेसारीउम्मीदोंपरपानीफेरदियाहै।किसानोंकाकहनाहैकिइसबारिशकापानीगरमाफसलकेलिएहानिकारकहै।इसतरहसेबारिशहोनेसेफसलनष्टहोजाताहै।स्थानीयकिसानजगदेवयादव,सुमनयादव,प्रभुयादव,संतोषयादव,उमेशयादव,प्रकाशकुमार,वीरेंद्रसिंह,रामचंद्रसिंह,अरुणसिंह,प्रदीपसिंह,प्रमोदराम,अर्जुनराम,कृष्णराम,कालेश्वररामआदिनेबतायाकियहबारिशकीपानीसेलगभग10कट्ठामेंलगायागयामूंगबर्बादहोगया।सरकारधान,मकईयादीकाफसलबीमाकरतेहैंलेकिनमूंगकाफसलबीमानहींकियाजाताहै,जिसकेकारणहमकिसानोंकोकाफीपरेशानीझेलनीपड़रहीहै।मूंगसेहमलोगोंकाकईमहीनेदलहनकीजरूरतपूरीकरतेथे।लेकिनइसबारइंद्रभगवानकेप्रकोपकेकारणमूंगकीफसलबर्बादहोगई।वहींसब्जियोंकेहरे-भरेपौधेपीलेहोऔरफूलझड़गएहै।फललगनाअबमुश्किलहै।ऐसेमेंअबएकहीसहाराआलूहै।एकतरफलाकडाउनवकोरोनासंक्रमणकीमारदूसरीतरफफसलोंकोनुकसानसेकिसानोंकीचिताकाफीबढ़गईहै।