संवादसूत्र,टंडवा:प्रखंडक्षेत्रमेंबेमौसमबारिशसेसड़कोंकीसूरतबिगाड़दीहैतथाठंडवशीतलहरीकाप्रकोपबढ़गयाहै।जिससेआमजनजीवनअस्तव्यस्तहोगया।लोगदेरसुबहघरमेंदुबकेरहेहैतथाकोहरेकीचादरसेपूरावातावरणलिपटारहा।ठंडीहवाचलनेकेकारणअसहायवगरीबलोगकाजीनाबेहालहोगयाहै।रविवारअहलेसुबहहल्कीबारिशहोनेकेकारणसड़केकीचड़मयहोगया।टंडवा-सिमरियामुख्यमार्गकेखधैयाएवंरहमतनगरपुलकेसमीपसड़कपरकीचड़हैतथाकोलवाहनोंपरिचालनहोनेसेबड़े-बड़ेगढ़ेबनगएहैजिससेराहगीरोंकोआवाजाहीमेंकाफीपरेशानियोंकासामनाकरनापड़रहाहै।

By Daniels