जागरणसंवाददाता,चंडीगढ़।सिटीब्यूटीफुलचंडीगढ़वनमहोत्सवकीशुरुआतहोचुकीहै। यहशुरुआतसेक्टर-35स्थितसरकारीमॉडलस्कूलकेप्रिंसिपलदेवेंद्रगोसाईंद्वारालक्ष्मीतरुकापौधालगाकरकीगई।इसकेसाथहीस्कूलप्रांगणमेंअंजीर,महुआ,बड़हल(धेहुयाटेहु)औरमहोगनीकेआयुर्वेदिकऔषधीयगुणोंसेभरपूरकईंप्रजातियोंकेपौधेलगाएगए।

इसवनमहोत्सवकार्यक्रममेंस्कूलकेटीचर्स,स्कूलमैनेजमेंटकमेटीकेसदस्योंऔरचतुर्थश्रेणीकेसभीकर्मचारियोंनेभागलिया।वनमहोत्सवकार्यक्रममेंउपस्थितसभीकोजागरूककरतेहुएस्कूलप्रिंसिपलदेवेंद्रगोसाईंनेकहाहमेंजबभीसमयमिलेपौधारोपणकार्यक्रमोंमेंशामिलहोनाचाहिए,ताकिपर्यावरणकोस्वच्छएवंसुंदरबनायाजासके।इतनाहीनहींहमेंपेड़-पौधोंकीदेखभालबच्चोंकीतरहकरनीचाहिए।पेड़-पौधेबादलोंकोआकर्षितकरतेहैंइसलिएजहांपेड़-पौधेअधिकहोतेहैंवहांवर्षाभीअधिकहोतीहै।

1960केदशकमेंहुईवनमहोत्सवकीशुरुआत

वहींस्कूलकेस्पोर्ट्सटीचरकुलदीपमेहरानेबतायाकिवहकईंवर्षोंसेपौधारोपणकरतेआरहेंहै।अबतकहजारोंपौधेंलगाचुकेहैं।वनमहोत्सवभारतसरकारद्वारापौधारोपणकोप्रोत्साहनदेनेकेलिएप्रतिवर्षजुलाईकेप्रथमसप्ताहमेंआयोजितकियाजाताहै।जो1960केदशकमेंपर्यावरणसंरक्षणऔरप्राकृतिकपरिवेशकेप्रतिसंवेदनशीलताकोअभिव्यक्तकरनेवालाएकआंदोलनथा।तत्कालीनकृषिमंत्रीकन्हैयालालमाणिकलालमुंशीनेइसकासूत्रपातकियाथा।इसआंदोलनकामुख्यउद्देश्यमानवद्वारानिर्मितवनोंकाक्षेत्रफलबढ़ानाएवंजनतामेंपौधारोपणकीप्रवृत्तिपैदाकरना।इसलिएहमेंवनमहोत्सवमेंस्कूल,कॉलेजों,सरकारीऔरगैरसरकारीशिक्षणसंस्थानोंकेसाथघरकेआंगनमेंजहाँभीउचितजगहमिलेंवहांपरअधिकाधिकपेड़-पौधेलगानेचाहिए।स्कूलमेंलक्ष्मीतरु,अंजीर,महुआ,बड़हल(धेहुयाटेहु)औरमोहगनीकेऔषधीयगुणोंसेभरपूरकईंप्रजातियोंकेपौधेरोपितकिएगए।

इनऔषधीयपौधोंकीयहहैंविशेषताएं

लक्ष्मीतरु:यहपौधामुलत:उत्तरीअमेरिकाकापेड़है।इसकेबीजोंसेखाद्यतेलबनताहै।इसे'स्वर्गकापेड़'(पैराडाइजट्री)कहाजाताहै।भारतमेंयहपेड़सबसेपहले2006मेंआर्टऑफलिविंगकेसंस्थापकश्रीश्रीरविशंकरनेतत्कालीनराष्ट्रपतिडॉ.अब्दुलकलामद्वारालगवायागयाथा।इसपेड़केपत्तोंसेजहांसेकंडस्टेजतककेकैंसरकाखात्मासंभवहै,वहींआंखोंकेरोग,एनीमिया,अंदरूनीफोड़ा,रक्तस्राव,पाचनप्रणाली,गैसएसिडिटी,हाइपरएसिडिटी,डायरिया,कोलाइटिस,चिकनगुनिया,हेपेटाइटिस,मलेरिया,फीवर,मासिकधर्म,सफेदपानीसमेतअनेकरोगोंकोभीबहुतजल्दठीककरताहै।लक्ष्मीतरुपेड़कीकुछपत्तियांमात्रएककपपानीमेंउबालकरखालीपेटपानीपीनाहोताहै।

अंजीर:ऐसामानागयाहैकिपृथ्वीपरपाएजानेवालेसबसेपुरानेफलोंमेंसेएकअंजीरभीहै।यहअत्यंतस्वादिष्टऔरपोषकतत्वोंसेभरपूरफलहोताहैजबऔरतोंमेंप्रेगनेंसीकेदौरानखूनकीकमीहोजातीहैडॉक्टरभीअंजीरखानेकासुझावदेतेहैक्योंकिअंजीरमेंविटामिनए,बी1,बी2,कैल्शियम,आयरनऔरफास्फोरिकजैसेकईलाभकारीतत्वपाएजातेहैं।इसेफलऔरड्राईफ्रूटदोनोंप्रकारसेखायाजाताहै।यहफलमुख्यतःभारतओरयदिविश्वकीबातकरेंतोयहप्रमुखतःदक्षिणीतथापश्चिमीअमरीकाऔरमेडिटेरेनियनतथाउत्तरीअफ्रीकीदेशोंमेंउगायाजाताहै।

महुआ:महुएकाफूल,फल,बीज,छाल,पत्तियाँसभीकाआयुर्वेदमेंअनेकप्रकारसेउपयोगकियाजाताहै।महुएकाधार्मिकमहत्वभीहै।रेवतीनक्षत्रकाआराध्यवृक्षहै।

बड़हलयाबड़हर(धेहुयाटेहु):एकफलदारवृक्षहै।इसकेफलगोलाकारयाबेडौलहोतेहैं।हरेरंगकाकच्चाफलपकनेपरपीलाहोजाताहैजिसेखायाजाताहै।यहनेत्ररोग,कर्णखुजली,ज्वररोग,मुख्शोधनार्थ,प्रवाहिका,कुष्टवर्णघाव,स्वादिष्टआचारभीबनायाजाताहै

महोगनी:महोगनीएकऔषधीयपौधाहै।इसकेफलवपत्तोंसेकैंसर,ब्लडप्रेशर,अस्थमा,सर्दी,मधुमेहसहितअन्यरोगोंकीदवाएंबनाईजातीहैं।यहपौधा5वर्षमेंएकबारबीजदेताहै।

इसवनमहोत्सवकार्यक्रममेंसरकारीमॉडलस्कूलसेक्टर-35चंडीगढ़केप्रिंसिपलदेवेंद्रगोसाईं,स्पोर्ट्सटीचरकुलदीपमेहरा,सविता,रीनाविज,सुनीलध्यानी,समीरशर्मा,मनुशर्मा,नवप्रीतकौरसहितस्कूलमैनेजमेंटकमेटीसेपरमिंदरसिंह,योगेशकुमार,विनीतअवस्थी,अश्वनीकुमार,महिंद्रसिंहउपस्थितरहें।इसकेसाथहीस्कूलकेसभीचतुर्थश्रेणीकर्मचारियोंनेभीभागलियाजिसमेंमुख्यरूपसेशिवबरन,रामराज,बालेश्वर,सुंदर,संतोषकुमारऔररविकुमारउपस्थितरहे।

By Davey