जागरणसंवाददाता,जींद:डीएवीपब्लिकस्कूलमेंरविवारकोकक्षाप्रथमवद्वितीयकेविद्यार्थियोंकेलिएक्लासशोकाआयोजनकिया।इसकाशीर्षकचहकताबचपनरखागया।कार्यक्रममेंमुख्यअतिथिकेतौरपरअतिरिक्तजिलाएवंसत्रन्यायाधीशगुरविद्रकौररही।कार्यक्रममेंविद्यार्थियोंनेसांस्कृतिककार्यक्रमप्रस्तुतकरकेसमांबांधदिया।कार्यक्रमकोसंबोधितकरतेहुएअतिरिक्तजिलाएवंसत्रन्यायाधीशगुरविद्रकौरनेकहाकिमाता-पिताऔरशिक्षककेमिलेजुलेसहयोगसेहीबच्चोंकासर्वांगीणविकाससंभवहै।जिसप्रकारमाता-पितापूरीतन्मयताकेसाथछोटेबच्चेकेपालनपोषणमेंअपनीभूमिकानिभातेहैं।वैसेहीशिक्षकभीबच्चेकीप्रतिभाकोपहचानकरउसकोनिखारतेहैं।तबबच्चापूरेआत्मविश्वासकेसाथआगेबढ़ताहैऔरउसेएकमंचप्राप्तहोजाताहै।एकलघुनाटिकाप्रस्तुतकरजलबचानेकासंदेशदिया।विशिष्टअतिथिकेरूपमेंपहुंचेमुख्यन्यायिकदंडाधिकारीअशोककुमारनेकहाकिडीएवीसंस्थाएंदेशमेंएकपहचानरखतीहैं।डीएवीस्कूलोंकेक्षेत्रियनिदेशकडॉ.धर्मदेवविद्यार्थीनेअतिथियोंकास्मृतिचिन्हभेंटकरसम्मानितकिया।

By Davies