जासं,मैनपुरी:परिषदीयस्कूलोंमेंपढ़नेवालेबच्चोंकापैसाउनकेअभिभावकखागए।अबस्कूलकानयासत्रशुरूहुआतोबच्चेबिनाड्रेसकेहीस्कूलपहुंचरहेहैं।कईबच्चोंकेअभिभावकोंकेखातेमेंधनराशितोपहुंची,लेकिनअभिभावकोंनेयूनिफार्मनहींखरीदे।इसकेकारणवहबिनाड्रेसऔरजूता-मोजाकेस्कूलमेंपढ़नेकेलिएआरहेहैं।विभागीयअनदेखीसेइसकीपड़तालतकनहींहोसकीकिकितनेअभिभावकोंनेबच्चोंकाड्रेसखरीदाऔरकितनोंनेनहींखरीदा।वैसे,अभी28हजारविद्यार्थियोंकेखातेमेंयहराशिअबतकनहींआसकीहै।

जिलेमें1909परिषदीयप्राथमिक,उच्चप्राथमिकऔरकंपोजिटविद्यालयहैं।ऐसेस्कूलोंमेंबीतगएशिक्षासत्रकेदौरान1.92लाखविद्यार्थीपंजीकृतथे।बीतेसालकेदौरानपरिषदीयविद्यालयोंकेइनविद्यार्थियोंकेलिएयूनिफार्म,स्वेटरआदिकापैसाशासननेउनकेअभिभावकोंकेखातेमेंभेजा।यहधनराशिप्रतिबच्चा11सौरुपयेथी।अभिभावकोंकेखातोंमेंआईइसराशिसेप्रत्येकबच्चेकीदोयूनिफार्मकेलिए600रुपये,जूतेऔरस्वेटरकेलिए200-200रुपयेऔरस्कूलबैगकेलिए100रुपयेतयथे।पहलेयहधनराशिविभागकेखातेमेंआतीथी,जहांसेपैसाएसएमसी(स्कूलमैनेजमेंटकमेटी)केखातोंमेंभेजाचलाजाताथा।वहांग्रामप्रधानऔरशिक्षकयूनिफार्मऔरस्वेटरआदिकीव्यवस्थाकरातेथे।इसव्यवस्थापरअंगुलियांउठनेलगीतोशासननेबीतेसत्रसेइसमेंबदलावकरदिया।

बीएसएकमलसिंहनेबतायाकिअधिकांशबच्चोंकोयूनिफार्मकेलिएउनकेअभिभावकोंकेखातेमेंधनराशिभेजाचुकीहै।कितनेबच्चोंकेअभिभावकोंनेयूनिफार्मखरीदी,इसकीजानकारीकेलिएस्कूलोंकोनिर्देशितकियागयाहै।शिक्षकोंसेकहाहैकिवहअभिभावकोंपरदबावबनाए,ताकिवहबच्चोंकेलिएयूनिफार्मखरीदसकें।28हजारकोअभीइंतजार

जिलेकेकरीब28हजारऐसेपरिषदीयबच्चेहैं,जिनकेअभिभावकोंकेखातोंमेंयहराशिअभीतकनहींआईहै।बीएसएकमलसिंहकाकहनाथाकिऐसेबच्चोंकेअभिभावकोंकेखातोंमेंतकनीकीकमियांहैं,इनकोदूरकियाजाजारहाहै।जल्दधनराशिआएगी।एकनजरइधरभी

1.92लाखविद्यार्थियोंनेबीतेशिक्षासत्रमेंपरिषदीयस्कूलोंमेंकरायाथापंजीयन

1100रुपयेप्रतिबच्चाकेहिसाबसेअभिभावकोंकेखातेमेंभेजीगईधनराशि

02यूनिफार्म,जूते,स्वेटरऔरस्कूलबैगकेलिएप्रत्येकबच्चेकोदीगईथीधनराशि

By Dennis