जागरणसंवाददाता,पटेहरा(मीरजापुर):विकासखंडकेककरदमेंजनपदकासबसेअहमदिव्यांगोंकाआईस्पर्शइंटरकालेजबनकरवर्षोंसेतैयारहै,लेकिनहैंडओवरनहींहोनेसेविद्यालयमेंपठनपाठनअबतकचालूनहींहोसकाहै।हैंडओवरनहोनेकेकारणबच्चोंकाभविष्यअधरमेंहै।क्षेत्रकेलोगोंनेकईबारविभागीयअधिकारियोंकेअलावाजनप्रतिनिधियोंकाध्यानकेंद्रितकरायालेकिनसिर्फआश्वासनकेअलावाकुछनहींहासिलहोसका।

क्षेत्रकेलोगोंनेबतायाकिवर्ष2015-16सेहीआसलगाएथेकिअबदिव्यांगबच्चोंकोबाहरपढ़नेकेलिएअबनहींजानाहोगा।अबवेपढ़लिखकरअपनेबूतेपरकमानेलायकहोजाएंगे।दिव्यांगजनभीसोचेथेकिअबपरिवारकाबोझनहींबनेंगेकिन्तुपैकफेडसंस्थावविभागीयपेंचकेचलतेदसकरोड़कीलागतकाबनाविद्यालयवहास्टलअपनेआपकोअधीरबनखड़ाहै।उक्तविद्यालयकेचालूहोजानेपर100दिव्यांगजनकोहरवर्षहॉस्टलयुक्तइंटरतककीशिक्षामुफ्तमिलनेवालीकेंद्रीयसरकारकीअहमयोजनाथी।थोड़ी-थोड़ीकमियोंकोलेकरपैकफेडस्वयंकमाईकेचक्करमेंनजानेक्योंहैंडओवरनहींकरापारहाहै।यदिभवनहैंडओवरहोजातातोविद्यालयअपनेअस्तित्वमेंआजाताऔरबच्चोंकाभविष्यभीसंवरनेलगता।इससंबंधमेंठेकेदारउमेशचंदमिश्रनेबतायाकिचारकरोड़पैतीसलाखकीलागतसेविद्यालयऔरपांचकरोड़पैसठलाखसेहास्टलबनकरतैयारहै।ठेकेदारनेबतायाकिविभागीयलापरवाहीकेचलतेएककरोड़बकायाकाभुगताननहींहोपारहाहैऔरहैंडओवरभीनहींकरापारहाहै।

By Dean