चतरा(जुलकरनैन):एकचित्रकारशिक्षकनेकिसतरहवीरानवखंडहरविद्यालयकीसूरतबदलदी,इसकीबानगीदेखनीहोतोचलेआइए-चतराजिलेकेमयूरहंडप्रखंडस्थितपुरैनीउत्क्रमितमध्यविद्यालय।यहसरकारीस्कूलआपकामनमोहलेगा।इसेइसमुकामतकपहुंचानेवालेशिक्षककानामहै-विकासकुमारसिंह।

अपनेबूतेसुशिक्षितसमाजगढऩेमेंजुटेविकासकुमारसिंहअद्भुतचित्रकारभीहैं।विलक्षणप्रतिभाऔरसृजनात्मकसोचकेधनीहैं।चहुंओरहोरहीअपनीप्रशंसासेबेपरवाहवहस्वच्छ,स्वस्थऔरसुंदरभारतकीतस्वीरउकेरनेमेंअनवरतजुटेहुएहैं।उन्होंनेनकेवलअपनीपरिकल्पनाकोजमीनपरउकेरकरइसविद्यालयकीबेहतरीनछविगढ़ी,अपितुसाथीशिक्षकोंकेलिएप्रेरणास्रोतभीबनगए।दोएकड़मेंस्थितविद्यालयपरिसरकभीभूतबंगलाकेरूपमेंजानाजाताथा।कुत्ते,बकरीवअन्यपशुओंकाअड्डाथा।यहांचहुंओरझाडिय़ांउगआईथीं।बच्चेस्कूलआनेमेंडरतेथे।

वर्ष2008मेंजबविकासकुमारसिंहयहांबतौरप्रधानाध्यापकपदस्थापितहुएतोअनूठीपहलशुरूकी।खुदपरिसरस्थितझाडिय़ांसाफकराई।विभिन्नप्रकारकेफूलऔरफलदारपौधेलगाए।सफाईऔरसजावटपरध्यानदिया।उन्होंनेखुदअपनेहाथोंसेविद्यालयकीदीवारोंपरपर्यावरणसंरक्षण,स्वच्छ,स्वस्थऔरसुंदरसमाजकासंदेशदेतीतस्वीरेंउकेरीं।यहीनहींविद्यालयमेंइनसंदेशोंकाअनुपालनभीसुनिश्चितकराया।

विद्यालयकेसाथग्रामीणोंकोजोडऩेकीपहलकी।ग्रामीणभीबढ़चढ़करसहयोगकरनेलगे।शिक्षकभीपढ़ानेमेंरुचिलेनेलगे।अनुशासनकोविद्यालयकामूलमंत्रबनायागया।अबचहुंओरस्कूलकीचर्चाहोरहीहै।जिलाप्रशासनकेअधिकारीभीतारीफकरतेनहींथकते।सुशिक्षितसमाजगढऩेमेंयोगदानकेलिएविकासकुमारसिंहसम्मानितभीकिएजाचुकेहैं।

2018मेंदैनिकजागरणकेकार्यक्रमकेदौरानतत्कालीनउपायुक्तजितेंद्रकुमारङ्क्षसहनेप्रशस्तिपत्रप्रदानकियाथा।करीबएकवर्षपूर्वउनकेतैलचित्रोंकोतत्कालीनउपायुक्तदिव्यांशुझानेअपनेट््वीटरहैंडलपरसाझाकियाथा।

By Day