जागरणसंवाददाता,शिमला:छात्रअभिभावकमंचनेनिजीस्कूलोंमेंजमाएकमेंहोनेवालेदाखिलेमेंमनमानीकाआरोपलगायाहै।मंचनेचेतावनीदीहैकिअगरएडमिशनफीसलेनाबंदनहींकियातोस्कूलोंकेखिलाफआंदोलनहीविकल्पहोगा।

मंचकेसंयोजकविजेंद्रमेहरानेकहाहैकिसभीनिजीस्कूलजमाएकमेंदाखिलेमेंमनमानीकररहेहैं।जमाएकमेंएडमिशनफीसकेरूपमेंहजारोंरुपयेवसूलेजारहेहैं।यहफीससामान्यत:10हजाररुपयेसेज्यादाहै।यहीनहींबल्किदसवींसेग्यारहवींमेंजानेवालेछात्रोंकीफीसकीराशिभीलगभगदोगुनाकीजारहीहै।आरोपलगायाकिऑकलैंडस्कूलमेंदसवींसेग्यारहवींमेंजानेवालेविद्यार्थियोंकीफीस45हजारसेबढ़ाकर70हजारकीगईहै।चेप्सलीस्कूलमेंयहबढ़ोतरी34हजारसे65हजारहै।डीएवीमेंयहबढ़ोतरी45हजारसे80हजारहै।चेलसीस्कूलमेंयहबढ़ोतरी29से54हजारहै।एडवर्डमेंयहबढ़ोतरी45से70हजारहै।इसतरहशिमलाशहरकेस्कूलोंमेंप्लसवनमेंछात्रोंकीफीसलगभगदोगुनाकरकेभारीलूटकीजारहीहै।

उन्होंनेकहाकिप्लसवनकेछात्रोंसेएडमिशनफीसएडवांसमेंलेलीजातीहै।प्लसवनकासेशनअप्रैलमेंशुरूहोताहै,जबकिएडमिशनफीसपिछलेसालदिसंबरमेंहीलेलीजातीहै।अगरजमाएककेलिएएडवांसमेंएडमिशनफीसदेनेवालाछात्रफेलहोजाएअथवास्कूलछोड़करचलाजाएतोहजारोंरुपयेकीयहएडमिशनफीसवापसनहींकीजाती।अगरछात्रकेअंककमआएंतोछात्रकोजबरनअपनीपसंदकेबजाएदूसरासंकायचुननेकेलिएबाध्यकियाजाताहै।कईस्कूलकमअंकपानेवालेछात्रोंकोजबरनस्कूलसेबाहरनिकालदेतेहैं।इसतरहनिजीस्कूलोंमेंभारीतानाशाहीवमनमानीहै।उन्होंनेशिक्षानिदेशकसेमांगकीहैकिनिजीस्कूलोंकीइसतानाशाहीपररोकलगाईजाए।

----------निजीस्कूलप्रबंधनराज्यपालकोसौंपेगेज्ञापनजागरणसंवाददाता,शिमला:हिमाचलनिजीस्कूलवेलफेयरसोसायटीकीबैठकभटाकुफरसिटीपब्लिकस्कूलशिमलामेंहुई।इसकीअध्यक्षताअध्यक्षदिनेशशर्माकीअध्यक्षतामेंहुई।बैठकमेंजिलाशिमलाकेलगभग35स्कूलोंप्रबंधकोंनेभागलिया।बैठकमेंसमस्याओंसेजूझरहेनिजीस्कूलोंपरचर्चाकीगई।समितिराज्यपालकोसोमवारकोज्ञापनकेमाध्यमसेनिजीस्कूलोंकीसमस्याओंसेअवगतकरवाएगी।समितिकेअध्यक्षनेऐसेसंगठनोंपरशीघ्ररोकलगानेवकार्रवाईकीमांगकीजोशिक्षाकेसौहार्दपूर्णमाहौलकोखराबकररहेहैं।अध्यक्षनेकहाहैकिनिजीस्कूलप्रबंधकोंकोप्रताड़ितकरनाएकसोचीसमझीचालहै।चिताकीबातहैकिइनदिनोंसड़कोमेंकुछराजनीतिकसंगठनसिर्फप्रदेशमेंशिक्षापरराजनीतिकररहेहैं।बैठकमेंकुछमुद्दोंवसमस्याओंपरचर्चाहुई।शिक्षासंस्थानोंके100फीटतकधारा144निरंतरलगानेकीमांगकीहै,क्योंकियेदेशकेभावीपीढ़ीकीनैतिकताकेहननसेजुड़ामुद्दाहै।

By Day