प्रिसशर्मा,गढ़मुक्तेश्वर

साहब!मैंस्कूलजानाचाहताहूं।पढ़-लिखकरआगेबढ़नाचाहताहूं।मगर,मेरेपितामुझसेमजदूरीकरानाचाहतेहैं।विरोधकरताहूंतोजानसेमारनेकीधमकीदीजारहीहै।मेरीविनतीहैकिआपमेरेपापाकोसमझाकरमेरीपढ़ाईनरुकनेदें।यहकरुणाभरेशब्दसिभावलीथानेमेंअपनेपिताकेखिलाफशिकायतलेकरपहुंचे14वर्षीयबच्चेकेहैं।

सिभावलीक्षेत्रकेएकगांव(बीरमपुर)काछठीकक्षामेंपढ़नेवाला14वर्षीयलड़काथानेमेंपहुंचा,जिसनेसहमेहुएअपनेसाथहोरहीनाइंसाफीकीदास्तांबयांकी।उसनेकहाकिकोरोनासंक्रमणकेकारणस्कूलबंदहोनेपरमेरीपढ़ाईछूटगईथी,परंतुअबजल्दहीस्कूलखुलनेकीतैयारीहोरहीहै,जिसकापतालगतेहीवहस्कूलजानेकीतैयारीकरनेमेंजुटगया,लेकिनस्कूलजानेसेमनाकरतेहुएपिताउसेमजदूरीपरजाकरघरेलूखर्चकेलिएरुपयेकमाकरलानेकादबावबनारहाहै।किशोरनेविनतीकरतेहुएकहाकिवहमजदूरीकीबजायअपनीपढ़ाईजारीरखनाचाहताहैताकिपढ़लिखकरस्वजनकेसाथअपनानामरोशनकरसकूं।किशोरनेआरोपलगायाकिवहजबभीस्कूलजानेकीजिदकरताहैतोउसकापितागालीगलौजकरतेहुएजानसेमारनेकीधमकीदेनेलगताहै।लाचारकिशोरनेपुलिसवालोंसेपिताकोसमझानेकाआग्रहकिया।थानाप्रभारीराहुलचौधरीकाकहनाहैकिकिशोरकीतहरीरकेआधारपरबड़ीबारीकीसेजांचकराईजाएगी।

By Dennis