नयीदिल्ली,21जुलाई(भाषा)विदेशमंत्रीएसजयशंकरनेबुधवारकोकहाकिमेकांगक्षेत्रकेमहत्वकोदेखतेहुएभारतउसकेसाथबहुआयामीजुड़ावचाहताहै।जयशंकरने11वींमेकांग-गंगासहयोग(एमजीसी)बैठककोसंबोधितकरतेहुएकोरोनावायरसमहामारीसेप्रभावीढंगसेनिपटनेकेलिए‘‘सामूहिकऔरसहयोगात्मक’’कार्रवाईकाआह्वानकियाऔरकहाकियहवायरसराष्ट्रीयसीमाओंतकसीमितनहींहै।सम्पर्क,पर्यटनऔरसंस्कृतिसहितकईक्षेत्रोंमेंसहयोगकोबढ़ावादेनेकेलिए2000मेंछहदेशों-भारत,कंबोडिया,म्यांमार,थाईलैंड,लाओसऔरवियतनामकोशामिलकरतेहुएएमजीसीपहलशुरूकीगईथी।जयशंकरनेकहा,‘‘भारतकेलिए,मेकांगक्षेत्रकाबहुतमहत्वपूर्णहै।भारतमेकांगदेशोंकेसाथबहुआयामीजुड़ावचाहताहै।हमेंसहयोगकेनएक्षेत्रोंकीपहचानकरकेअपनीसाझेदारीकेआधारकोव्यापकबनानेकीजरूरतहै।’’उन्होंनेकहा,"हमारालक्ष्यनकेवलभौतिकबल्किडिजिटल,आर्थिकऔरलोगोंसेलोगोंकेबीचसंपर्कसहितव्यापकअर्थमेंक्षेत्रमेंसम्पर्ककोबढ़ावादेनेकाहै।’’कोरोनावायरससंकटकाजिक्रकरतेहुए,जयशंकरनेकहाकिइसबारेमेंतरीकेतलाशनेकीजरूरतहैकिएमजीसीकीसाझेदारीमहामारीकेखिलाफलड़ाईमेंअपनीताकतकैसेदेसकतीहै।विदेशमंत्रीनेयहभीकहाकिमेकांगगंगासहयोगछहदेशोंकेबीचसाझाभौगोलिक,ऐतिहासिकऔरसभ्यतागतसंबंधोंकीमजबूतनींवपरखड़ाहै।

By Daniels