संवादसूत्र,पातेपुर:

पातेपुरप्रखंडक्षेत्रसेहोकरबहनेवालीनूननदीकेजलस्तरमेंवृद्धिहोनेसेफिरएकबारक्षेत्रमेंबाढ़काखतरामंडरानेलगाहै.नदीकेकिनारेबसेगांवोंकेलोगोमेंदहशतकामाहौलकायमहोगयाहै।नदीमेंलगातारबढ़तेपानीसेकईक्षेत्रोंमेंटूटेबांधसेपानीअबएकबारफिरसेक्षेत्रोंमेंफैलरहाहै।किसानोंमेंतैयारखरीफफसलकोनुकसानहोनेकीचितासतानेलगीहै।

मालूमहोकिपातेपुरप्रखंडकेलोगोंकाअभीडेढ़माहपूर्वआईबाढ़कीतबाहीकाजख्मभराभीनहींथाकिफिरएकबारनूननदीमेंजलस्तरबढ़नेसेक्षेत्रमेंबाढ़कापानीफैलनाशुरूहोगया।नदीकेटूटेबांधोंसेनदीकापानीक्षेत्रकेनिचलेइलाकोंमेंफैलनेसेबाढ़केबादबचीखुचीफैसलेंजोअबतैयारहोचुकीहैं,बर्बादहोनेकेकगारपरपहुंचरहीहैं।कईइलाकोंमेंअबधानकीफसलपककरतैयारहोचुकीहै।पहलेहीखेतोंमेंपानीहोनेकेकारणकिसानोंकोधानकीकटनीपसीनेनिकालरहीहै।वहींदूसरीओरखेतोंमेंऔरअधिकपानीभरनेकेबादअबकिसानोंकीपरेशानीदोगुनीहोनेकीसंभावनाबढ़तीजारहीहै।एकबारप्रकृतिकीमारझेलचुकेकिसानदोबाराबाढ़कीबातसुनतेहीसिहरउठरहेहैं।हालांकिक्षेत्रमेंपानीबढ़नेकीरफ्तारधीमीहोनेकेकारणकिसानजीजानलगाकरखेतोंसेफसलकाटकरनिकालनेमेंजुटेहैं।

प्रखंडक्षेत्रकेकिसानमहावीरराय,इंद्रजीतसिंहआदिनेबतायाकिपातेपुरकेबरडीहाचंवर,अगरैलचंवर,नीरपुरचंवरआदिमेंनदीकापानीफिरसेफैलनेकेकारणकिसानोंकीचिताबढ़नालाजमीहै।वहींइसक्षेत्रमेंबायानदीकापानीभीजंदाहाकेआसपासकेतरफसेआनेकेबादखेतोंमेंलगातारपानीमेंवृद्धिदेखीजारहीहै।