पाण्डेश्वर:पिछलेवर्षपाण्डेश्वरक्षेत्रकोयलाउत्पादनमेंकाफीपिछड़गयाथा।लेकिनचालूवित्तीयवर्षमेंक्षेत्रकाकोयलाउत्पादनमेंकुछसुधारदिखाईदेरहाहै।क्षेत्रकेमहाप्रबंधकसेलेकरकोलियरीकेअधिकारीकोयलाउत्पादनबढ़ानेपरजोरदेरहेहैं।ताकिक्षेत्रलक्ष्यतकपहुंचसके।पाण्डेश्वरक्षेत्रकेनएमहाप्रबंधकअरुणकुमारझाकेआनेकेबादक्षेत्रकाकोयलाउत्पादनपिछलेवर्षकीअपेक्षाअच्छाहै।हालांकिपिछलेवर्षसेज्यादालक्ष्यइसबारदियागयाहै।चालूवित्तीयवर्ष2018-19मेंपाण्डेश्वरक्षेत्रको34लाखमीट्रिकटनकोयलाउत्पादनकालक्ष्यमिलाहै।जबकिपिछलेवर्षमेंक्षेत्रको29लाखमीट्रिकटनकोयलाउत्पादनकालक्ष्यमिलाथा,जोपूरानहींहोसकाथा।लेकिनचालूवित्तीयवर्षमेंक्षेत्रकीस्थितिअच्छीहै।जिसकानतीजाहैकिक्षेत्रनेअबतकलगभग9लाखमीट्रिकटनकोयलाउत्पादनकरलियाहै।जबकिबाकीबचेमाहमेंअबभी25लाखमीट्रिकटनकोयलाउत्पादनहरहालमेंकरनाहोगा।तभीक्षेत्रकीहालतमेंसुधारहोगा।क्षेत्रकेमहाप्रबंधकअरुणकुमारझानेतीनमाहपहलेदायित्वसंभाला।यहांआनेकेबादसेउन्होंनेकोयलाउत्पादनबढ़ानेकीदिशामेंकार्यकोदर्शानेकेसाथ-साथअधिकारियोंकोफटकारभीलगारहेहैं।उनकीमेहनतसोचकेसाथकार्यकरनेकीक्षमतादेखकरलगताहैकिपाण्डेश्वरक्षेत्रचालूवित्तीयवर्षमेंकोयलाउत्पादनलक्ष्यकेकरीबपहुंचजाएगा।उन्होंनेउम्मीदजतायाकिसभीकेप्रयाससेक्षेत्रलक्ष्यकोहासिलकरेगा।जिसमेंकर्मीसेलेकरअधिकारीवश्रमिकसंगठनोंकाभीसहयोगमिलरहाहै।

By Davis