मुंगेर।प्रखंडकासबसेपुरानाफिलीपउच्चतरमाध्यमिकविद्यालयकाभवनजर्जरहोनेकेकारणविद्यार्थियोंतथाशिक्षकोंकोपठन-पाठनकार्यमेंपरेशानियोंकासामनाकरनापड़ताहै।विद्यालयभवनकेकमरेकेछतकेप्लास्टरगिरनेसेछात्रभयभीतहोजातेहै।सरकारशिक्षाकेक्षेत्रमेंबड़े-बड़ेविकासकेदावेकरतेहैं।लेकिनजमीनीहकीकतकुछऔरहीबयांकररहीहै।विद्यालयमें14कमरेहैं।छतकापूरासीमेंटतथाऊपरकेदोनोंकमरेकीछतकेसीमेंटकेगिरजानेसेरडदिखलाईपड़ताहै।विद्यालयकीगंभीरस्थितिकोदेखतेहुएऊपरकेकमरेमेंशिक्षणकार्यको2016मेंहीबंदकरदियागयाथा।विद्यालयभवनकेनीचेकेकमरेमेंबारिशकापानीजमाहोजाताहै।जिसकेकारणशिक्षकोंतथाछात्राओंकोपठनपाठनमेंदिक्कतकासामनाकरनापड़ताहै।विदितहोकिइसविद्यालयकीस्थापना1939मेंकीगईथी।यहांकेदोप्रधानाध्यापककोराष्ट्रपतिपुरस्कारसेसम्मानितकियाजाचुकाहै।विद्यालयको2009मेंइंटरस्तरीयविद्यालयकादर्जादियागया।लेकिनआजतकइनकेलिएभवनकानिर्माणनहींकियाजासकाहै।विद्यालयकीस्थितिबदसेबदतरहोतीजारहीहै।विद्यालयमेंपढ़नेवालेछात्रअंकितकुमार,अविनाशकुमार,नरेशकुमारआदिनेकहाकिविद्यालयकेकमरेमेंबैठनेसेडरलगताहै।कबछतकाप्लास्टरनीचेगिरजाएगकहनामुश्किलहै।लेकिनविद्यालयभवननिर्माणकेलिएविधायकतथासरकारनेकोईप्रयासनहींकिया।जिसकेकारणउनलोगोंकोपरेशानीकासामनाकरनापड़ताहै।विद्यालयभवनकीजर्जरस्थितिकेकारणछात्रोंकोकमरेमेंबैठनाखतरेसेखालीनहींहै।लेकिनशिक्षकोंकीमजबूरीहैकिविद्यालयमेंछात्रोंकोजानजोखिममेंडालकरपढ़ानापड़ताहै।लोगोंनेविद्यालयभवननिर्माणकीमांगकीहै।

By Davis