-संगीतकोबनायासपनोंकीदुनिया,मचारहीहैधमाल

-बिहारआइडियलकार्यक्रममेंहासिलकीथीप्रथमस्थानफोटो23जमुई-27

विधुशेखर,सिकन्दरा(जमुई):''सेनानीकरोप्रयाणअभय,भावीइतिहासतुम्हाराहै,येनखतअमाकेबुझतेहैंसाराआकाशतुम्हाराहै''।राष्ट्रकविदिनकरकीइसपंक्तिकोसहीसाबितकियाहैसिकन्दराबाजारकेग्रामीणपरिवेशमेंपली-बढ़ीबच्चीरितिकापांडेयने।11वर्षकीछोटीउम्रमेंउसनेगायिकीकेक्षेत्रमेंसफलताकीपरचमलहरादीहै।उसकीआवाजसुनलोगवाह-वाहकरउठतेहैं।वहसंगीतकेक्षेत्रमेंअंतरराज्यीयपरचमलहराचुकीहै।अभावों,बंधनोंएवंसामाजिककुरीतियोंकेबीचरहकरसंगीतकेक्षेत्रमेंरितिकाकाअपनास्थानबनानानारीसशक्तिकरणकेक्षेत्रमेंमहिलाओंकेलिएएकआदर्शहै।तीर्थंकरमहावीरविद्यामंदिर(विरायतन)स्कूललछुआड़केवर्गछहकीरितिकाबिहारदिवस2018मेंपटनामेंआयोजितबिहारआइडियलकार्यक्रममेंसंगीतकेक्षेत्रमेंप्रथमस्थानहासिलकियाहै।वहींनवंबर2018मेंफुलवरियाकोड़ासीमेंएसएसबीद्वाराआयोजितसांस्कृतिककार्यक्रममेंअव्वलआईथी।इसतरहरितिकानेबिहारकेपटना,लखीसराय,शेखपुरा,नवादा,नालन्दाकेअलावाझारखंडराज्यमेंभीप्रथमपुरस्कारहासिलकरपरचमलहरानेमेंसफलरहीहै।रितिकाकाजन्मवर्ष2007कोहुआ।5सालकीनन्हीसीउम्रसेउसनेस्टेजपरफॉर्मेंसकरनाशुरूकरदी।बचपनसेहीरितिकाकोगीतसंगीतमेंरुचिथी।रितिकाकोयहकलाउनकेदादासेवानिवृतशिक्षकमहेन्द्रपांडेयवपितासेमिली।रितिकाकेपिताकानामरंजयकुमारपांडेयऔरमाताकानामरिकुकुमारीहै।बचपनसेहीपरिवारकासाथमिलाऔररितिकाकीरुचिगीतसंगीतमेंबढ़तीचलीगई।बहुमुखीप्रतिभाकीधनीरितिकास्कूलमेंजातेजातेवहसबकीचहेतीसिगरबनचुकीहै।स्कूलकेअलावासभीसांस्कृतिककार्यक्रममेंभागलेकरमेडलऔरपुरस्कारजीते।छोटी-सीरितिकावर्तमानमेंमहुआप्लसटीवीवबीगंगाटीवीपरअपनेसंगीतकाजादूबिखेररहीहै।रितिकाकाएलबमकेरूपमेंभवानीआजैतू,झुलेलीभवानीमैया,मारीपिचकारीकान्हाजैसेछहभक्तिगीतएलबमबाजारोंमेंआचुकीहै।वहअपनाआदर्शभक्तिगायिकीकेक्षेत्रमेंअंजलिभारद्वाजवस्वरकोकिलालतामंगेश्वकरकोमानतीहै।अपनेएलबमकैरियरकेक्षेत्रमेंसाराश्रेयतरंगम्यूजिकपटनाकेडायरेक्टरउमेशकुमारएवंअपनेगीतकारमधुकरपांडेयकेसाथयुगलबंदीकलाकारगुलशनपांडेयवम्यूजिकडायरेक्टरशिशिरपांडेयमुंबईकोदेतीहै।रितिकाफूहड़गीतोंकाकड़ाविरोधकरतेहुएकहतीहैकिवहसिर्फभक्तिगीतहीगानापसन्दकरतीहूं।भक्तिगीतहीमेरेसंगीतकासपनोंकीदुनियाहै।