संवादसूत्र,बारुण(औरंगाबाद):विद्यालयमेंव्याप्तअव्यवस्थाकोलेकरसिरिसउच्चविद्यालयकेछात्रोंनेशनिवारकोप्रदर्शनकिया।ड्रेसमेंविद्यालयआनेकेआदेशसेछात्रभड़कउठे।विरोधमेंसड़कजामकरदिया।जीटीरोडजामकरछात्रोंनेप्रदर्शनकिया।छात्रोंनेमांगोंकेसमर्थनमेंनारेबाजीकी।करीबआधेघंटेतकजीटीरोडजामरहा।छात्रोंनेकहाकिविद्यालयमेंकोईसमुचितव्यवस्थानहींहै।टूटेफर्शपरबैठकरपढ़नापड़ताहै।बैठनेकेलिएदरीनहींमिलताहै।बारिशकेमौसममेंछतसेपानीटपकताहै।जामकीसूचनापरमुखियाप्रतिनिधिसंतोषकुमारनेसमझाकरजामहटाया।विद्यालयकेप्राचार्यडीकेरायनेबतायाकिविद्यालयमेंछात्रड्रेसपहनकरनहींआतेहै,जिसकारणमनचलेलड़केभीविद्यालयमेंबाउंड्रीनहोनेकीवजहसेआतेजातेरहतेहै।ड्रेसनहींहोनेकेकारणपहचाननहींहोपाताहैकिलड़केबाहरकेहैंयाविद्यालयके।शनिवारकोजोछात्रड्रेसपहनकरनहींआएथे,उन्हेंड्रेसपहननेकीहिदायतदीगईजिसपरवेकिसीकेबहकावेमेंआकरसड़कजामकरदिया।साथहीअन्यसमस्याओंपरकहाकिविद्यालयमेंविकासकोषमेंराशिहैलेकिनप्रबंधनसमितिकागठननहोनेकेकारणउसराशिकाउपयोगनहींकरपारहेहै।

By Dixon