नयीदिल्ली,17जुलाई(भाषा)दिल्लीउच्चन्यायालयनेएकफैशनडिजायनरकोफेसमास्कबनानेमेंदिल्लीपब्लिकस्कूल(डीपीएस)केट्रेडमार्कऔरलोगो(निशान)काइस्तेमालकरनेसेरोकदियाऔरकहाकिइससेसंस्थानकेकॉपीराइटकाउल्लंघनहोताहै।न्यायमूर्तिमुक्तागुप्तानेअपनेअंतिरमआदेशमेंकहाकिवादीडीपीएससोसायटीकीदलीलोंसेउसकेपक्षमेंमामलाबनताहैऔरयदिअंतिरमस्थगननहींलगायाजाताहैतोउसेअपूरणीयक्षतिहोगी।उच्चन्यायालयनेकहा,‘‘(मास्कपर)डिजायनपरमहजएकनजरडालनेसेपताचलताहैकियहनकेवलवादी(डीपीएससोसायटी)केट्रेडमार्गएवंलोगोकाउल्लंघनकरताहैबल्किइससेयहभीधारणाबनतीहैकियेचीजेंवादीकीहैं।’’मामलेकीअगलीसुनवाई28जुलाईकोहोगी।डीपीएससोसायटीनेकहाकिवहदेशमें200विद्यालयचलारहीहैऔरउसेअपनेलोगोकेइस्तेमालपरविशेषअधिकारहैजिसेदिसंबर,2012मेंट्रेडमार्कअधिनियमकेतहतदर्जकियाथा।उसनेयहभीकहाकिट्रेडमार्क‘दिल्लीपब्लिकस्कूल’और‘डीपीएस’भीट्रेडमार्कअधिनियमकेतहतपंजीकृतहैं।उच्चन्यायालयकोसोयायटीनेबतायाकिउसेजून,2020केपहलेसप्ताहमेंमंसूरअलीखानसेवीडियोमिलाजिसमें‘दिल्लीपब्लिकस्कूल’ट्रेडमार्ककेफेसमास्ककेनिर्माणकीखबरएकटेलीविजनपरप्रसारितकियेजानेकीसूचनाथी।खबरमेंकहागयाथाकिदिल्लीपब्लिकस्कूलमास्कपरछपाहैऔरस्कूलनेअपनेविद्यर्थियोंसेप्रतिमास्क350-400रूपयेवसूलाहै।खानसोसायटीकेसाथमिलकरबेंगलुरुएवंमैसूरमेंदिल्लीपब्लिकस्कूलचलातेहैं।उसकेबादसोयायटीनेजांचकरायीऔरउसनेपायाकिप्रतिवादीफैशनडिजायनरमनीषत्रिपाठीस्कूलकाट्रेडमार्कनकलकरअपनेब्रांड‘नमस्तेअवे’केनामसेमास्कबेचरहाहै।

By Dean