सुपौल।प्रखंडकेविभिन्नपंचायतोंमेंबेटियोंकेलिएअबभीप्राथमिकऔरमाध्यमिकशिक्षापरग्रहणलगाहुआहैतोउच्चशिक्षाकीबातहीबेमानीहोगी।ऐसानहींहैकिलड़कियांपढ़नानहींचाहतीहैलेकिनसंसाधनोंकीकमीऔरसामाजिकताना-बानाकेकारणअधिकांशछात्राएंआठवींकेबादआगेतकनहींपढ़पारहीहै।कईपंचायतऐसीहैजहांनदियांभीबेटियोंकेपैरोंमेंबेड़ियांडालरहीहै।तोकईपंचायतेंऐसीहैंजहांउच्चविद्यालयनहींहै।

बतादेंकिकईपंचायतऐसेहैंजहांउच्चविद्यालयनहींहै।मसलनजीवछपुर,घीवहाआदिपंचायतोंमेंहाईस्कूलनहींहै।इनपंचायतोंकीबालिकाओंकोपढ़नेकेलिएपांचसेसातकिलोमीटरदूरजानापड़ताहै।नामांकनकरवानेकेबादशुरुआतीदिनोंमेंतोबच्चियांस्कूलजातीहैंलेकिनधीरे-धीरेजानाछोड़देतीहैं।छात्रारीताकुमारीबतातीहैंकिरोजइतनीदूरीतयकरस्कूलजानासंभवनहींहोता।रामपुरपंचायतमेंउच्चविद्यालयहरिहरपुरजानेकेलिएइसपंचायतकेवार्डनंबरएककीछात्राओंकोलगभगचारकिलोमीटरकीदूरीतयकरनीपड़तीहै।यहांसेपहलेछातापुरजानापड़ताहैफिरहरिहरपुर।इसकाकारणगेडानदीकीधाराहैजोबीचोंबीचबहतीहै।यहधाराकुसहात्रासदीकेबादबनी।यहीहालयहमध्यविद्यालयरामपुरकाहै।यहांभीआनेकेलिएबच्चोंकोउतनीहीदूरीतयकरनीपड़तीहै।छात्रतोजैसे-तैसेअपनीपढ़ाईपूरीकरलेतेहैंलेकिनलड़कियांचाहकरभीपिछड़जातीहै।अगरबातसुरपत¨सहउच्चमाध्यमिकविद्यालयकीबातकरेंतोइसविद्यालयकापरिसरबारिशकेदिनोंमेंतालाबमेंतब्दीलहोजाताहै।शिक्षकनरेशकुमारनिरालाकहतेहैंकिछात्रोंकीअपेक्षाछात्राएंपढ़नेकेप्रतिकाफीसजगहोतीहैंलेकिनग्रामीणइलाकोंमेंबेटियांचाहकरभीनहींपढ़पातीहै।जबतकछात्राओंकोपढ़नेकेलिएप्रत्येकपंचायतमेंउच्चविद्यालयऔरउसमेंयोग्यशिक्षकोंकीनियुक्तिनहींहोजातीहैतबतकबालिकाओंकोशिक्षाप्राप्तकरनेमेंकठिनाईहोतीरहेगी।प्रखंडशिक्षापदाधिकारीलल्लूपासवाननेकहाकिसरकारबालिकाशिक्षाकोबढ़ावादेनेकेलिएमिड्लस्कूलोंकोउत्क्रमितकररहीहै।काफीसंख्यामेंस्कूलउत्क्रमितभीहुएहैं।जिनपंचायतोंमेंस्कूलनहींहैवहांभीव्यवस्थाकीजारहीहै।

By Davies