रांची,राज्यब्यूरो।स्कूलबच्चोंकाभविष्यगढ़तेहैंऔरज्ञानवसंस्कारकीघुट्टीपिलातेहुएउनकाव्यक्तित्वनिखारतेहैं।घरकेअलावाबच्चेसबसेज्यादास्कूलोंमेंहीसीखतेहैं।किताबीज्ञानकेसाथहीबच्चेअपनेशिक्षकोंवसहपाठियोंसेआचार-विचारऔरव्यवहारभीसीखतेहैं।इसीलिएव्यक्तिकेजीवनमेंशिक्षकऔरस्कूलोंकीभूमिकाबड़ीहोतीहै।दुखदस्थितियहहैकिकईबारबच्चेऔरउनकेस्कूलभीसंकुचितमानसिकताऔरओछीराजनीतिकेचक्करमेंउलझजातेहैं।इससेछात्रोंकेकोमलमनपरबहुतबुराअसरपड़ताहै।कईबारतोवहभ्रमकेशिकारहोजातेहैं।

ताजामामलाजामताड़ाकेकरमाटांड़प्रखंडकेबिराजपुरउच्चविद्यालयकाहै,जहांशुक्रवारकोअचानकबच्चोंकोछुट्टीदेकरस्कूलमेंतालाबंदकरदियागया।लागूनियमोंकेअनुसारयहगलतथा।स्कूलनमाजपढ़नेकेलिएबंदकियागयाथा।इसलिएमामलेनेसांप्रदायिकरंगभीपकड़ा।अभीइसमुद्देपरराजनीतितेजहै।वहींविभागकेअधिकारियोंनेप्रधानाचार्यसेस्पष्टीकरणभीमांगाहै।दरअसलइसस्कूलमेंअल्पसंख्यकसमुदायकेविद्यार्थियोंकीसंख्याअधिकहै।हालांकिबहुसंख्यकसमुदायकेबच्चेभीपढ़तेहैं।शुक्रवारकोअचानकस्कूलमेंछुट्टीघोषितकरदीगई।इसेराजनीतिकचश्मेसेभीदेखाजारहाहै।

जाहिरहैइसविवादकाबच्चोंपरभीअसरपड़रहाहोगा।स्कूलोंकीयहजिम्मेदारीहैकिवहछात्रोंमेंजीवनकेप्रतिस्वस्थ,स्पष्ट,तर्कपूर्णऔरप्रगतिशीलदृष्टिकोणविकसितकरें।जामताड़ाजिलेमेंआठउर्दूप्राथमिकएवंमध्यविद्यालयहैं।यहांपहलेसेऐसीव्यवस्थाहैकिविद्यालयशुक्रवारकोबंदरहतेहैं,जबकिरविवारकोपढ़ाईहोतीहै।उच्चविद्यालयकेलिएऐसाकोईप्रविधाननहींहै।स्कूलबंदकरनेकानिर्णयकिसआधारपरलियागयाइसकीजांचहोनीचाहिए।जरूरतइसबातकीभीहैकिविद्याकेपवित्रमंदिरमेंजोभीहो,बच्चोंकेभविष्यकोध्यानमेंरखकरहीहो।मिल-बैठकरइसकीहलनिकालाजासकताहै।

By Davey