जिलेकेकईमध्यविद्यालयमेंखेलकासंसाधनउपलब्धहोतेहुएभीखेलकीआठवींघंटीनाममात्रकीरहगईहै।विद्यालयमेंखेलकेकईप्रकारकेसंसाधनउपलब्धहैं।इसकेबावजूदभीखेलसेबच्चेवंचितहै।बिहारशिक्षापरियोजनाकेतहतखेलकूदकरानेकेलिएतिथिभीघोषितकरदीगईहैं।इसकेतहतसीआरसीवबीआरसीकोनोटिसभीभेजनेकाकामहोरहाहैं।लेकिनबड़ीबातयहहैकितनेविद्यालयकेपासखेलकेलिएपरिसरतकउपलब्धनहींहैं।कुछविद्यालयोंकेपासखेलकेसंसाधनोंकाहीअभावहै।जिससेविद्यालयोंमेंपढ़नेवालेछात्र-छात्राओंकीप्रतिभानिखरनहींपाती।

विद्यालयमेंखेलकापरिसरनहीं:

शिक्षाविभागकेअंतर्गतचलरहेविद्यालयोंमेंखेलकेलिएपरिसरउपलब्धनहींहैं।जिससेविद्यालयमेंरूटिनकेअनुसारपढ़ाईहोनेकेबादआठवींघंटीमेंबच्चोंकाखेलनेकासपनाअधूरारहजाताहै।वहींपरिसरनहींरहनेसेविद्यालयमेंरखेसारेसंसाधनखराबहोरहेहैं।जिससेछात्रोंमेंखेलकेप्रतिजागरूकतानहींआपाती।

संसाधनकीभीहैकमी:

कईविद्यालयोंमेंमैदानहोतेहुएभीखेलकेसंसाधनउपलब्धनहींहैं।जहांबच्चेखेलकेसंसाधनकेबिनाहीखेलकूदकरतेहैं।कुछबच्चेमैदानमेंबैठकरआपसमेंबातचीतकरतेहैं।कुलमिलाकरखेलकेलिएप्रखंडसेलेकरजिलाकेअधिकारीभीइसबातपरध्याननहींदेते।जबकिविद्यालयोंमेंविकासकोषसेखेलकेसामानखरीदेजानेकाप्रावधानहै।जहांसभीविद्यालयोंमेंनामांकनकेआधारपरविकासकोषकीराशिमिलतीहै।

By Dodd