लखनऊ,राजूमिश्र।सड़केंअक्सरउत्तरप्रदेशमेंविकासरथकेपहिएकोपंक्चरकरतीरहीहैं।पिछलेदशकभरकापरिदृश्यदेखिएतोदिल्लीसेआगराकेबीचकेवलएकयमुनाएक्सप्रेस-वेहीनजरआताथा।फिरलखनऊ-आगराएक्सप्रेस-वेपरिदृश्यमेंउभराजिसकाश्रेयसमाजवादीपार्टीकीअखिलेशयादवसरकारकोबेशकजाताहै।इससेयहउम्मीदजगीकिआजादीकेबादसेहीविकासकेसफरमेंपिछड़ेप्रदेशमेंयदितेजीसेआगेबढ़नाहैतोकनेक्टिविटी(सुगमआवाजाही)परफोकसकरनाहोगा।

पहलेकेदोएक्सप्रेस-वेकीदिक्कतयहथीकिइनकेनिर्माणकेसमयपूरेप्रदेशकोजोड़नेकीसमग्रसोचनहींथी।कहींनकहींजिनपार्टियोंकीसरकाररहीउनमेंअपनेगढ़क्षेत्रकोसत्ताकेंद्रदिल्लीऔरलखनऊसेजोड़नेकेनजरियेसेथी।प्रत्यक्षरूपमेंइसेपर्यटनकीसंभावनासेजोड़ागया,किंतुउसकाकोईबड़ाफायदाप्रदेशकोनहींमिला।पहलीबारउत्तरप्रदेशकीयोगीसरकारनेइनएक्सप्रेस-वेकोप्रदेशकोएकछोरसेदूसरेछोरतकजोड़नेकामाध्यमसमझा।इसीकापरिणामहैकिपूर्वाचलएक्सप्रेस-वे,बुंदेलखंडएक्सप्रेस-वे,गोरखपुरलिंकएक्सप्रेस-वेऔरगंगाएक्सप्रेस-वेकीकल्पनाकीगई।

हरसालबजटीयप्रविधानमेंइनकासर्वोच्चध्यानरखागया।इसबारभीबजटमेंइनकेलिएलगभग26हजारकरोड़रुपयेकाप्रविधानकियागयाहै।इनमेंसेपूर्वाचलएक्सप्रेस-वेतोदोमाहबादहीआवागमनलायकहोजाएगा।प्रदेशकेअपरमुख्यसचिवगृहवयूपीडाकेसीईओअवनीशकुमारअवस्थीकहतेहैंकियहमुख्यमंत्रीकीमहत्वपूर्णयोजनाओंमेंशामिलपरियोजनाहै।हरहालमेंअप्रैलतकइसेजनताकेलिएलोकार्पितकरदियाजाएगा।मिट्टीकाकाम95फीसदतकपूराहोगयाहै।पूरीसड़कका75फीसदकामहोचुकाहै।गाजीपुरमेंफ्लाईओवरकीवजहसेकुछकामबाकीहै।इसएक्सप्रेस-वेकोबिहारसेजोड़नेकेलिएएनएचएआइनेस्वीकृतिदेदीहै।गोरखपुरलिंकएक्सप्रेस-वेऔरबुंदेलखंडएक्सप्रेस-वेकेकाममेंभीबहुतज्यादाकमीनहींबचीहै।बुंदेलखंडएक्सप्रेस-वेभीइसीसालचालूहोनेकाअनुमानहै।

देशकेसबसेबड़ेगंगाएक्सप्रेस-वेकाकामअभीशुरुआतीचरणमेंहै।यहप्रदेशकेपश्चिमीछोरमेरठसेशुरूहोकरप्रदेशकेपूर्वीगेटप्रयागराजतकजाएगा।इसकेलिएभूमिअधिग्रहणकीप्रक्रियाशुरूहोगईहै।इनएक्सप्रेस-वेकाजालबिछजानेकेबादप्रदेशकाहरकोनाएक-दूसरेकेसंपर्कमेंहोगा।इससंपर्ककासीधाअर्थहै-व्यापार,पर्यटनऔररोजगार।

स्वास्थ्यसेवाओंमेंसुधारकाप्रयास:कोविड-19नेहमेंयहअच्छीतरहसिखादियाहैकिस्वास्थ्यहमारीशीर्षप्राथमिकतापरहोनाचाहिए।चाहेव्यक्तिगतस्वास्थ्यकीबातहोयासार्वजनिकस्वास्थ्यसुविधाओंकी।सभीसरकारेंअपनीसोचऔरबजटकेअनुसारसार्वजनिकस्वास्थ्यसेवाओंमेंसुधारकादावाकरतीरहीहैं।वर्तमानयोगीसरकारनेभीस्वास्थ्यसेवाओंकेसुधारकेलिएकईमहत्वपूर्णकदमउठाएहैं।प्राथमिकस्वास्थ्यसेवाओंकीतरफध्यानदियागयाहै।जहांपहलेसेप्राथमिकस्वास्थ्यसेवाएंबेहतरथीं,उन्हेंउच्चीकृतकरसामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रकादर्जादियागया।

बड़ीसंख्यामेंचिकित्सकोंऔरपैरामेडिकलस्टाफकीतैनातीकीगईहै।लेकिनकोविड-19नेसबकदियाहैकिहमविकासकेजिसछोरकीतरफबढ़रहेहैं,वहांसार्वजनिकस्वास्थ्यसेवाओंकोशीर्षप्राथमिकतामेंरखकरपहलेसेकईगुनाअधिकइच्छाशक्तिवसंसाधनकेसाथबुनियादीढांचाखड़ाकरनाहोगा।अभीभीहमारेपासचिकित्सकोंकाआबादीकीतुलनामेंअनुपातविश्वस्वास्थ्यसंगठनकेमानकोंसेबहुतदूरहै।योगीसरकारनेसंभवत:इसीचिंताकेआधारपरप्रदेशमेंबड़ीसंख्यामेंनिजीसहभागितासेमेडिकलकॉलेजखोलनेकीयोजनाबनाईहै।

[वरिष्ठसमाचारसंपादक,उत्तरप्रदेश]